नींद की गोली लेते हो तो हो जाइए सावधान

अक्सर तनाव या कोई मानसिक समस्या होने पर हम नींद की गोली खा लेते है और हमें नींद भी आ जाती है । धीरे-धीरे ये बडी परेशानी में बदल जाता है । नींद की गोली हमारे दिमाक पर बुरा असर डालती है ।

हाल ही में एक रिसर्च में इस बात का खुलासा किया गया है की एंटी कोलीनर्जिक युक्त गोलियां और नींद की गोली लेने से अगर आप चैन और सुकून भरी नींद के लिए नींद की गोलियों लेने के आदी हो चुके है तो जरा संभल जाए ।

नींद की गोलियों का लम्बे समय तक सेवन करते रहने से ये जानलेवा भी साबित हो सकती है । आइए जानते है कि नींद की इस गोली के सेवन से हमारे स्वास्थय पर क्या-क्या असर पडता है –

स्वाभाविक नींद नहीं
sleeping.jpg

सर्वप्रथम हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए की नींद की गोली खाने से नैचुरल नींद नहीं आती है । नींद की गोलियों के लगातार सेवन करते रहने से शारिरीक और मानसीक स्वास्थय पर भी बुरा असर पडता है । इसके अलावा इन गोलियों के सेवन करते रहने से इनका इनका असर धीरे-धीरे कम होने लगता है ।

गर्भावस्था को नुकसान
pregnant_Woman.jpg

किसी विशेष परिस्थिति या अवस्था जैसे गर्भवती महिलायें यदि डाॅक्टर की सजाह के बिना ही इन दवाओं का प्रयोग करती है तो उनकी भावी संतान पर भी इसका असर पडता है । अक्सर देखा गया है कि ऐसी स्थिति में होने वाले बच्चे के अंग-भंग की आंशका ज्यादा होती है ।

दिल का खतरा
heart_attack.jpg

नींद की दवाओं के 35 मिलीग्राम के स्टैंडर्ड डोज लेने से दिल के दौरे का खतरा 25 प्रतिशत बढ जाता है और पूरे साल इसके 60 मिलीग्राम के डोज से यह खतरा 50 प्रतिशत तक बढ जाता है । इन गोलियों में मौजुद तत्व जोपिडेम को दिल की बीमारियों की वजह बताया गया है ।

कमजोर याददाश्त
Week_memory.jpg

लंबे समय तक नींद की गोलियां लेने के कारण रक्त नलिकाओं में थक्के बन जाते हैं जिससे याददाश्त कमजोर होने का खतरा बढ जाता है । इसलिए नींद की गोलियां लेने से पहले डाॅक्टर की सलाह जरूर ले ।

कैंसर
cancer.jpg

शोध में पाया गया की नींद की गोलियों का संबध असामान्य रूप् से होने वाली मौत से है क्योकि इन दवाओं के अधिक इस्तेमाल से कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होने का खतरा भी 35 प्रतिशत से अधिक बढ जाता है ।

This Is Rising!