एलोविरा के फायदे और नुकसान ।

एलोविरा :- एलोविरा एक औषद्यिय पौद्या है । प्राचीनकाल से इसे गवारपाठा के नाम से भी जाना जाता है। औषद्यी की दुनिया म इसे संजीवनी भी कहा जाता है। एलोविरा के जुस का सेवन करने से शरीर मे पोषक तत्वो की कमी दूर होती है। एलोविरा मे अनेक गुण पाये जाते है। इसकी अनेक प्रजातीया पायी जाती है , जिनमे से कुछ ही प्रजातीया हमारे लिए लाभकारी होती है। आइए जानते है कि इसका उपयोग करने से क्या-क्या फायदे मिलते है।

एलोविरा के फायदेः-
1. एलोविरा शरीर की पाचन शक्ति को बढाता है।
2. पीलिया रोग मे इसका जुस पीने से लाभ मिलता है।
3. एलोविरा जुस पीने से कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलता है।
4. इससे शरीर की रोग प्रतिरोद्यक क्षमता बढाती है।
5. गठिया रोग मे इसका लेप लगाने से जोडा के दर्द मे राहत मिलती है।
6. जब मोटापा बढता है , तो कोलेस्टा्रॅल भी उसी तेजी से बढता है उस स्थिती मे एलोविरा जुस कोलेस्टा्रॅल के स्तर को बनाकर रखता है व मोटापे         को भी कम करता है।
7. सुबह खाली पेट इसका जुस पीने से शरीर की शारिरीक क्षमता मे वद्धि होती है।
8. इसे त्वचा पर लगाने से त्वचा मे कसावट आती है और अगर कोइ घाव हुआ है तो ये उसे जल्दी भरता है।
9. बालो को मजबूत बनाने मे भी एलोविरा बहुत लाभकारी रहता है। बालो की कई समस्याओ को दूर करता है , जैसै बालो का झडना , बालो का 10. असमय सफेद होना , बालो की जडो का कमजोर होना , रुसी इत्यादी ।
11. बढती उम्र के कारण चेहरे पर आने वाले झुर्रियो के निशान को कम करने मे मदद करता है।
12. यह बवासीर रोग मे आराम पहुॅचाती है।
13. मद्युमेह के रोग मे भी यह बहुत लाभकारी है।
14. चेहरे पर हुए दाग -द्यब्बो पर इसे लगाने से फायदा मिलता है।
15. एलोविरा का उपयोग हम जैल , कन्डीशनर , शैविग की्रम , लोशन , हेयर स्पा के रुप मे कर सकते है।
16. जलने कटने के निशानो पर यह एक तरह से मरहम का काम करती है।
17. एलोविरा शरीर मे खून की कमी को दूर करता है।
18. इस जुस के नियमित सेवन करने से वजन कम करने मे सहायता मिलती है।
19. इसको नियमित रुप से पीने से आॅखो को स्वस्थ रखा जा सकता है।
20. स्किन पर धूप की वजह से पडने वाले दुष्प्रभावो से बचा जा सकता है। क्योकि यह सनस्क्रिन की तरह काम करता है।

एलोविरा के नुकसान:-
1. एलोविरा के जॅहा इतने फायदे है वहा कुछ नुकसान भी है । आइए जानते है कि वो कौन से नुकसान है।
2. एलोविरा की तासीर गर्म होती है इसलिए इसे गर्भावस्था व माहवारी मे खाना नुकसान दायी होसकता है।
3. स्तनपान करवाने वाली महिलाओ को भी इससे बचना चाहिए।
4. हद्वय रोगी के लिए यह हानिकारक होता है।
5. यह शरीर मे पोटेशियम की मात्रा कम करता है जिससे दिल की द्यडकन अनियमित हो सकती है और कमजोरी आ जाती है।
6. बच्चो और बूढो को इससे बचना चाहिए।
7. एलोविरा के ज्यादा सेवन से जुस पेल्विस मेजमा होने लगता है जिससे किडनी पर खराब असर पडता है।
8. प्रेगनेन्ट महिला को भी इससे दूर रहना चाहिए क्योकि इससे यूटेराइन काॅन्टै्क्शन हो जाता है । जिससे बच्चो मे बर्थ डिफेक्टस बौर यहा तक कि         मिसकैरेज तक हो सकता है।
9. एलोविरा रस का अद्यिक सेवन करने से क्ष्रोणी मे खून का निर्माण हो जाता है । जिससे आपके गुर्दे को नुकसान हो सकता है।

This Is Rising!