आर्टिकल 370 के ऐतिहासिक फैसले पर अमेरिका और रूस ने दिया भारत को समर्थन

जम्मू-कश्मीर को स्पेशल स्टेटस देने वाले आर्टिकल 370 को खत्म करने और केंद्र शासित प्रदेश बनाने के भारत सरकार के फैसले के बाद पाकिस्तान बौखलाया हैं । उसने भारत के साथ सभी द्विपक्षीय रिश्ते समाप्त करने का फैसला किया और विश्व की बडी शक्तियों को इस मुद्दे पर दखल देने की अपील कर रहा हैं लेकिन उसे अभी तक निराशा ही हाथ लगी हैं ।

अमेरिका के बाद अब रूस ने कश्मीर मुददे पर भारत का समर्थन किया हैं रूस ने कहा भारत ने संवैधानिक दायरे में रहकर जम्मू-कश्मीर पर फैसला लिया हैं । रूस के विदेश मंत्रालय ने कहा भारत ने जम्मू-कश्मीर को लेकर जो भी फैसला लिया वह भारतीय संविधान के मुताबिक हैं ।

मंत्रालय ने आगे कहा हम भारत और पाकिस्तान के बीच स्थिति सामान्य होने के पक्षधर हैं । हमें उम्मीद है कि दोनों देशों के बीच मतभेद को द्विपक्षीय राजनीतिक और कुटनीतिक तरीके से हल कर लिया जाएगा । हम उम्मीद करते हैं कि भारत सरकार के इस फैसले के कारण दोनों देशों के बीच तनाव नहीं बढेगा ।

बता दें जम्मू-कश्मीर के इस ऐतिहासिक फैसले को अमेरिका ने भी भारत का आंतरिक मामला बताया हैं । अमेरिका और रूस के बयानों से साफ जाहिर हो रहा हैं कि ये दोनों देश पाकिस्तान का साथ नहीं देना चाहते । वहीं चीन ने भारत और पाकिस्तान से अपने विवादों को सुलझाने के लिए बातचीत करने का आग्रह किया । चीन की यह प्रतिक्रिया पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के चीन से परामर्श के लिए पंहुचने के बाद आई हैं ।

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर को लेकर दो फैसले लिए हैं पहला जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा लिया हैं दूसरा जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों लददाख और जम्मू-कश्मीर में बांटने का फैसला किया हैं ।

This Is Rising!